Breaking News
Home / टेक ज्ञान / दीवाली के दौरान उत्तरी और मध्य भारत में रोज़ अगरबत्तियों की मांग रही सबसे ज़्यादा

दीवाली के दौरान उत्तरी और मध्य भारत में रोज़ अगरबत्तियों की मांग रही सबसे ज़्यादा

संवाददाता,(दिल्ली):- दशहरा और दीवाली साल का वह समय है, जब अगरबत्ती न केवल पूजा में बल्कि उपहार के विकल्पों के रूप में भी महत्वपूर्ण हो जाती है। अगरबत्ती की खुशबू की बात करें तो जीवनशैली और सामाजिक तौर-तरीकों का इस पर बहुत असर पड़ता है। इस साल मध्य एवं उत्तरी भारत में रोज़ अगरबत्ती की मांग बहुत अधिक रही, क्षेत्र में बिकने वाली अगरबत्तियों में रोज़ अगरबत्तियों का योगदान 30 फीसदी रहा।
इस मौके पर श्री सरथ बाबू, अध्यक्ष AIAMA ने कहा ‘‘पिछले साल अक्टूबर-नवम्बर की तुलना में इस साल अगरबत्ती की बिक्री 20-25 फीसदी बढ़ी है। हर बाज़ार में किसी एक या दो तरह खुशबु वाली अगरबत्तियों की मांग अधिक रही जैसे दक्षिण में चंदन और चम्पा, पश्चिम में मोगरा, मध्य और उत्तरी भारत में रोज़ तथा पूर्व में सिट्रस की मांग अधिक रही। दिल्ली-एनसीआर, चंडीगढ़,  भोपाल और इन्दौर में अगरबत्तियों की कुल बिक्री में 30 फीसदी योगदान रोज़ अगरबत्तियों का रहा।
आगामी क्रिसमस और नववर्ष के मद्देनज़र अन्तराष्ट्रीय बाज़ार में अगरबत्तियों की मांग पिछले साल की तुलना में 10 फीसदी बढ़ने की उम्मीद है। वैज्ञानिक रूप से प्रमाणित हो गया है कि खुशबु किसी भी व्यक्ति के मूड और व्यवहार पर गहरा असर डालती है, सुबह और शाम के समय पूजा के दौरान इनका खास महत्व होता है। ये प्रक्रियाएं हमारे मन को शांत रखती हैं और व्यक्तिगत एवं पेशेवर जीवन के तनाव से राहत देती हैं।

About Mohan Bhowmik

Check Also

लोहिया के विचारों से प्रेरित हैं किसानों के लिए बनाई गई हमारी योजनाएं-प्रधानमंत्री मोदी

नई दिल्ली, 23 मार्च (आरएनआई) | 23 मार्च को जननेता राम मनोहर लोहिया की जयंति …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *